क्या महाभारत शकुनी की कोई चाल थी या फिर थी किसी बदले का हिस्सा.

The story behind shakuni mama mahabharata
The story behind shakuni mama mahabharata

Shakuni Story in Hindi: भारतीय कला एवं संस्कृति में यूँ तो समय-समय पर कई काल जयी प्रतिभाओं का उदय हुआ जिन्होंने अपने साहस एवं शौर्य से हमारे समाज को नई दिशा दी परन्तु यदि इन विशिष्ट महापुरुषों के समागम को यदि एक साथ देखना चाहते हैं तो फिर आपको एक बार महाभारत देखनी अथवा पढ़नी जरुर चाहिए | महाभारत में यूँ तो सारे किरदार हमे कुछ न कुछ जरुर सिखाते हैं परन्तु अपनी धूर्तता एवं वाटूकपता की वजह से शकुनी का किरदार इन सब में काफी अलग है | यूँ तो धरम एवं न्याय के उदय के फलस्वरूप जन्मी कुरुक्षेत्र के युद्ध में काफी कुछ हुआ परन्तु क्या आपको पता है कि महाभारत का युद्ध करवा कौरवों का संहार करना शकुनी की एक चाल थी..

जी हाँ…बात तब की है जब राजा धृतराष्ट्र ने गांधारी से विवाह कर किसी कारणवस गांधारी के सम्पूर्ण परिवार को बंदी बना लिया था और फिर उनके परिवार वालों को बहुत सारी यातनाये दी जाती थी | ऐसे में राजा सुबाला(गांधारी के पिता) ने सर्वसहमति से अपने परिवार के सबसे होनहार एवं वीर सदस्य शकुनी को अपने अपमान का बदला ले कौरवों को सबक सिखाने के लिए चुना था | स्वयं शकुनी ने अपने परिवार वालों को ये विश्वास दिलाया था कि कौरवों के समस्त मूल का नाश कर अपने तिरिस्कार का बदला लेना ही आज से मेरी पहली प्राथिमिकता होगी |

इसे भी पढ़े: तो इस वजह से दुर्योधन ने नहीं लिया द्रौपदी स्वयंवर में हिस्सा

अपने परिवारवालों पर हो रहे इस अन्याय एवं क्रूरता का बदला लेने के लिए ही शकुनी ने पासा के खेल से जिस घोर पाप की शुरुवात की थी उसका अंत महाभारत के युद्ध से हुआ | हम सब भली भांति जानते हैं कि किस तरह कुरुक्षेत्र के उस महायुद्ध में न्याय का साथ दे रहे पांडवो की सेना ने कौरवों को हरा उनसे अपनी खोयी इज्जत एवं राजपाट वापस छिना था | इस तरह केवल अपना बदला लेने हेतु शकुनी ने महाभारत के युद्ध की शुरुवात की थी |

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :इस लेख में प्रकट कि गयी जानकारी लेखक द्वारा गहन अध्यन एवं रिसर्च के पश्चात दी गयी है. रीडर्स ध्यान दे कि कुछ तथ्य जुटाने हेतु महाग्रंथो के विभिन्न अध्यायो से मदद ली गयी है. ऐसे में रीडर्स से अनुरोध है कि वे लेख पढ़ते वक़्त किसी भी तरह से विचलित न हो. हमारा उद्देश्य किसी भी तरह से धार्मिक आस्था को आहत करना नहीं है. .

अपने धरम एवं संस्कृति से जुड़े ऐसे ही कुछ अनसुने किस्सों के लिए हमारे धरम पेज पर बने रहे|

Tag: Shakuni Story in Hindi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here