शशकासन योग से पाए मानसिक रोगों में छुटकारा( Shashankasana Yoga in Hindi): जीवन में योग की महत्वता को समझाती हमारी योग सीरीज में आज हम आपके सामने लेकर आये हैं | Shashankasana Yoga… इस आसन को करते वक़्त शरीर की अवस्था खरगोश (शशक) के सामान हो जाती है इसलिए भी इस आसन को शशकासन कहा जाता है |

साधारणतया पेट एवं दिमागी रक्त सञ्चालन को तंदरुस्त करता ये आसन हमे मानसिक संतुलन बनाये रखने में काफी मदद करता है जिससे की क्रोध, तनाव, चिड़चिड़ापन जैसे मानसिक विकारों से छुटकारा मिलता है | पेश है एक रिपोर्ट |

Shashankasana Yoga कैसे करें:

(1) आसन को करने से पहले बज्रासन में बैठ जाये एवं दोनों हाथो को हलकी सांसे लेते हुए ऊपर उठाये |

(2) कंधो को कानो से सटाते हुए शरीर को एक सीध में बनाये | अब इसी अवस्था में हाथो को खुला रख सामने कि और झुकने का प्रयास करें |

(3) लम्बी-लम्बी सांसे भरते हुए दोनों हाथो को आगे जमीन पर टिका दें एवं माथे को भी जमीन पर टेक दें | इसी अवस्था में कुछ देर तक बने रहें |

Shashankasana Yoga के फायदे:

(1) इस आसन के नियमित अभ्यास से दिमाग में रक्त सञ्चालन दुरुस्त हो पाता है जिससे की क्रोध, तनाव, चिड़चिड़ापन जैसे मानसिक विकारों से छुटकारा मिलता है |

इसे भी पढ़े: कैसे करें टेंशन का बटन ऑफ

(2) ये आसन ह्रदय सम्बंधित विकारों के लिए काफी ज्यादा लाभदायक होता है | इससे पेट, कमर एवं कुलहो की चर्बी कम करने में भी काफी मदद मिलती है |

(3) ये आसन पेट में दवाव डाल आंत, लीवर एवं किडनी जैसी पाचन ग्रंथियों की क्रिया में काफी सुधार लाता है जिससे कि हमारा पाचन तंत्र तंदुरुस्त होता है |

योग से जुड़े ऐसे ही अन्य योगासन के लिए हमारे योग सीरीज वाले पेज पर बने रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here