जीतने पर मुख्यमंत्री पंजाब से ही होगा: अरविन्द केजरीवाल

arvind kejriwal press conference
arvind kejriwal press conference

जैसे -जैसे पंजाब विधानसभा चुनाव का दौड़ नजदीक आता जा रहा हैं, वैसे-वैसे पंजाब के राजनितिक गलियारों में कुलबुलाहट तेज़ होती जा रही हैं| नवजोत सिंह सिद्धू के तथाकथित “घर वापसी” से ले दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल जी के बयानों तक इस चुनावी महासंगम में हर पल समीकरण बदलते ही जा रहे हैं| नतीजा चाहे जो भी हो मगर केजरीवाल जी का उत्साह एवं विभिन्न एग्जिट पोलो में आप पार्टी की मौजूदगी इस बात के ओर जरुर संकेत करती हैं कि आप को इतने हलके में लेने की भूल कोई नहीं करेगा|

पिछले दिनों हुए एक संवादाता सम्मलेन में मुख्यमत्री जी ने पंजाब के भावी मुख्यमंत्री से ले आपने भावी चुनावी वादों के बारे में खुल के बात की|जहाँ एक और उन्होंने केंद्र के भाजपा सरकार पर निशाना साधने में देरी नहीं की तो वही एक रिपोर्टर द्वारा सिद्धू जी पर पूछे गए सवाल को भी वे बड़ी आसानी से टालते नजर आये| पेश हैं केजरीवाल जी के इंटरव्यू से जुड़े कुछ खास बातो के एक एक्सक्लूसिव रिपोर्ट पर|

 नशा मुक्त बनेगा प्रदेश:

मुख्यमंत्री केजरीवाल जी ने कहा की पंजाब कि सबसे बड़ी समस्या नशा हैं| नशे के वजह से आज यहाँ हजारों जीवन धीरे-धीरे मौत के कगार पर बढ़ते जा रही हैं| ऐसे में केंद्र एवं तत्कालीन अकाली सरकार की नाकामियों एवं रोज़गार के अवसर नहीं मुहैया करा पाने के वजह से पंजाब विकास नहीं कर पा रही हैं| आप के शासन में आते ही सबसे पहले नशे की समस्या को जड़ से उखाड फेंकने के लिए रोज़गार मुहैया करायी जाने जैसे समस्या पर जोड़ दिया जायेगा|

इसे भी पढ़े: ‘नोटबंदी’ आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला है : अरविंद केजरीवाल

सिद्धू अपने फैसले स्वयं लेने के हक़दार हैं

यहाँ बताते चले कि सिद्धू जी ने आप का न्यौता ठुकराते हुए कांग्रेस से नाता जोड़ लिया था और कहा था कि ये सही मायने में मेरी घर वापसी हैं| ऐसे में केजरीवाल और सिद्धू के बीच कहा-सुनी तो आम बाते हो गयी हैं| कभी सिद्धू की जमकर तारीफ करने वाले केजरीवाल आज सिद्धू को सत्ता का लोभी बता रहे हैं| जब एक पत्रकार ने उनसे उनके दोहरे चरित्र का कारण पूछा तो साफ़ लहजो में उन्होंने कहा कि सिद्धूजी अपने फैसले लेने के स्वयं हक़दार हैं और मैं उनके फैसले का सम्मान करता हूँ|

इसे भी पढ़े: सिद्धूजी “घर वापसी” का नाटक कही डिप्टी CM बनने के लिए तो नहीं.

उद्योगपति हमारे साथ हैं

दिल्ली के मुख्यमंत्री जी ने मीडिया से ये कहा कि कुछ लोग हमारे दुष्प्रचार में लगे हैं| उनका कहना है कि उद्योगपति केजरीवाल के साथ नहीं है जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है| हमारे योजनाओ एवं विकास नीतियों पर वे पूरी तरह से विस्वास करते हैं| मैं खुद सैकड़ों उद्योगपतियों के साथ बैठक कर चूका हूँ| ध्वस्त हो गए रोजगार प्रणाली को फिर से खड़ा करने के लिए व्यापार एवं उद्योग जगत का स्वर्णिम काल ला पंजाब को फिर से हरा-भड़ा करने में ये उद्योगपति ही हमारा साथ देंगे|

CM पंजाब से ही होगा

जाते-जाते मुख्यमंत्री केजरीवाल जी ने इस बात के भी संकेत दिए कि पार्टी चुनाव जीतने पर मुख्यमंत्री किसी पंजाब के ही प्रत्याशी को बनाएगी| हालाँकि विधानसभा चुनाव के दिन-नजदीक आ गए है मगर फिर भी पार्टी ने अभी तक मुख्यमंत्री पद की दावेदारी पेश नहीं की है| ऐसे में जनता एवं विपक्षी दल का यही मानना है कि हो सकता है केजरीवाल जी ही भावी मुख्यमंत्री बन जाये| केजरीवाल जी ने उन तमाम आलोचनाओ का खंडन करते हुए कहा कि हम आम पार्टी वाले है| चुनाव जीतने पर जनता एवं  पंजाब के आम लोग  जिसे अपना CM मानेगी ,सत्ता की बागडौर उन्ही के हाथों में सौपा जायेगा|

इसे भी पढ़े: क्यों केजरीवाल के ज्यादातर विरोधी दिल्ली के बाहर वालें हैं

खैर किसके दिल में क्या हैं यह तो आने वाला पल ही बताइयेगा| मगर हां जैसे-जैसे चुनावी समीकरण बदलते जा रहे है उस लिहाजा तो यही अनुमान लगाया जा रहा है कि पार्टी इस बार दिग्गजों को भी कड़ी चुनौती दे सकती हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here